‘एक देश, एक बाजार, एक कर’ सही है तो ‘एक देश, एक जाति’ कैसे गलत है?- — Osh Times

सूरज कुमार बौद्ध 30 जून और 1 जुलाई के बीच मध्य रात्रि से गुड्स एंड सर्विस टैक्स यानि कि वस्तु एवं सेवा कर कानून को पूरे देश में लागू कर दिया गया है। वस्तु एवं सेवा कर को लगाए जाने की कयास करीब 15 वर्षों से की जा रही है लेकिन सत्ता की सफारी पर […]

via ‘एक देश, एक बाजार, एक कर’ सही है तो ‘एक देश, एक जाति’ कैसे गलत है?- — Osh Times

Advertisements