​आधी रात को दरवाजा तोड  घर में घुसे; महिला, पुरुष एवं बच्चों पर बरसाई ताबड़तोड़ लाठियां 

दर्जनों ग्रामीण घायल, सामानों को किया तहस नहस , सीआरपीएफ पर लगाया ज्यादती का आरोप

सोनू कुमार 
चतरा  हंटरगंजः  बीते रात करीब एक बजे 50 से भी ज्यादा की संख्या में वर्दीधारियों ने तरवागाडा गांव पर जमकर कहर बरपाया। दरवाजा तोड़ कर घर के अंदर घुसे, फिर स्त्री, पुरुष और बच्चे जो जहां मिले वही ताबड़तोड़ लाठियां बरसाई। इसमे एक दर्जन से भी ज्यादा लोग घायल हो गए। इस क्रम में घर के सामान को भी तहस-नहस कर दिया। ग्रामीणों का कहना है कि ये बर्दीधारी खुद को सीआरपीएफ के जवान बता रहे थे। हालांकि सीआरपीएफ के कमांडेंट ने  इसे सिरे से खारिज कर दिया।

इस संदर्भ मे ग्रामीणों ने बताया कि रात में वर्दीधारियों ने गांव को चारों ओर से घेर लिया। फिर दरवाजे पर दस्तक देकर उसे खुलवाने का प्रयास किया। जब भयभीत ग्रामीणों ने दरवाजा नहीं खोला तो वर्दीधारियों ने उसे तोड़ दिया और घर में घुस गए। इसके बाद जो जहां मिला उसे वे लोग लाठियों से अंधाधुंध पिटाई की।

 इस क्रम में इन वर्दीधारियों ने महिलाओं और बच्चों को भी नहीं बख्शा। उनकी पिटाई की वजह से दर्जनों ग्रामीण घायल हो गये।  घायलों में शीला देवी पति बिरजू यादव, महोदरी देवी पति दिनेश यादव, अंछी देवी पति गुनी यादव, योगेश यादव पिता पुद्दी यादव, राजू यादव पिता रामदेव यादव, महेश यादव पिता केशव यादव, चंदन कुमार पिता गौरी यादव, पाचु यादव पिता वासुदेव यादव, कृत यादव पिता फुडी यादव, रविंद्र यादव पिता कैलाश यादव, छकु यादव पिता हरदेव यादव, सोनू भैया पिता भोला भैया रामदेव भैया पिता रुपचंद, रंजीत भैया पिता फन भैया, सुचित कुमार पिता बिरजू जाधव, सहोदरी देवी पति तुलसी यादव, राजू यादव पिता तुलसी यादव, उर्मिला देवी पति फुडी यादव शामिल है। 

घायलों का कहना है कि यह वर्दीधारी खुद को सीआरपीएफ का जवान बता रहे थे। वे कह रहे थे कि तुम लोग टीपीसी उग्रवादियों को संरक्षण देते हो और उन्हें खाना खिलाते हो, अपनी हरकत से बाज आओ, वरना इससे भी बुरा अंजाम होगा।

स्थानीय मुखिया दिलीप दास ने बताया कि इस मुद्दे लेकर थाने में लिखित रुप से शिकायत कि गयी है। सीआरपीएफ के कमांडेंट से भी इसपर बात की गयी। उन्होंने कहा कि सीआरपीएफ के लोग तरवागाडा नहीं गये थे। वैसे भी सीआरपीएफ महिलाओं और बच्चों का हाथ नहीं उठाती। गांव में दहशत का माहौल है। ग्रमीण भय से मुंह नहीं खोल पा रहे है।

Advertisements