आईईडी बम की चपेट में आने से एक स्कूली छात्र की मौत

कांकेर जिले में नक्सलियो द्वारा लगाए गये आईईडी बम की चपेट में आने से एक स्कूली छात्र की मौत। ​आखो में सपने लिए हँसते खलते बच्चे आज इस दर्दनाक बिस्फोट का शिकार हो गए। आईईडी बंब ब्लास्ट होने से एक स्कूली बच्चे की मौत दूसरा घायल। जवानो को नुकसान पहुँचाने के मनसूबे से नक्सलियो ने लगाया था बम।कढईखोदरा के पास हुआ ब्लास्ट, घायल को अंतागढ़ अस्पताल लाया गया। अंतागढ़ थाना क्षेत्र की घटना।
इस छोटे से बच्चे को ये भी पता नहीं, नक्सलबाद क्या है? छत्तीसगढ़ मे लाखो फ़ोर्स लगाने के बाद भी छत्तीसगढ सरकार नक्सलबाद का सफाया क्यों नहीं कर पा रही है।

 देखिए इस तस्वीर को, जिसमें भविष्य की एक उम्मीद ने नक्सलियों के लगाए बम की चपेट में आकर दम तोड़ दिया। क्या किसी के पास इसका जवाब है कि नक्सली या आतंकी सड़कों, पगडंडियों पर बम लगाते वक्त यह क्यों नहीं सोचते कि यहां से आम आदमी भी निकलेगा। वह बच्चा हो सकता है, बूढ़ा हो सकता है या फिर कोई महिला। ये हिंसा किसके लिए, इसकी जरूरत क्यों, आखिर कबतक इस लड़ाई में आम जनता पीसते रहंगे। कोन जिम्मेदार है इस बेगुनाह बच्चों के मौत का?

Advertisements