भारत और बांग्लादेश के बीच 22 समझौतों पर हस्ताक्षर हए

भारत और बांग्लादेश ने अपने संबंधों को नयी ऊर्जा प्रदान करते हुए रक्षा और असैन्य परमाणु सहयोग समेत विभिन्न सामरिक क्षेत्रों में करीब दो दर्जन समझौतों पर हस्ताक्षर किये। इससे पहले दोनों देशों के प्रधानमंत्रियों के बीच ‘सार्थक’ वार्ता हुई। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने बांग्लादेशी समकक्ष शेख हसीना के साथ विविध विषयों पर व्यापक चर्चा की और दोनों देशों के सामाजिक गठजोड़ को मजबूत बनाने पर विचार किया।

प्रधानमंत्री मोदी ने बांग्लादेश में विभिन्न परियोजनाओं को लागू करने के लिए 4.5 अरब डालर की नयी रियायती रिण सुविधा (लाइन ऑफ़ क्रेडिट) की घोषणा की। बांग्लादेश को सैन्य आपूर्ति के लिए 50 करोड़ डालर की अतिरिक्त रिण सुविधा की घोषणा करते हुए मोदी ने कहा कि यह बांग्लादेश की जरूरतों के अनुरूप होगा। हालांकि, तीस्ता जल बंटवारे के मुद्दे पर बहुप्रतीक्षित समझौते को अमलीजामा नहीं पहनाया जा सका।

बांग्लादेश की प्रधानमंत्री शेख हसीना 7 अप्रैल 2017  को चार दिवसीय दौरे पर भारत पहुंची हैं। बांग्लादेश की पीएम शेख हसीना के साथ 8 अप्रैल 2017 को दिल्ली के हैदराबाद हाउस में एक जॉइंट स्टेटमेंट में मोदी ने आतंकवाद के खिलाफ जीरो टॉलरेंस की पॉलिसी को आदर्श नीति बताया। वर्ष 2014 में नरेंद्र मोदी के प्रधानमंत्री बनने के बाद से शेख हसीना का यह पहला भारत दौरा है।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और बांग्लादेश की प्रधानमंत्री शेख हसीना संयुक्त रूप से वीडियो कांफ्रेंस के माध्यम से खुलना-कोलकाता एक्सप्रेस ट्रेन को हरी झंडी दिखाकर रवाना किया। इसके लिए बांग्लादेश के बेनापोल स्टेशन में सारी तैयारियां पूरी कर ली गईं। यह ट्रेन बांग्लादेश के बेनापोल के रास्ते खुलना से पश्चिम बंगाल के कोलकाता के बीच चलेगी।

समझौतों से जुड़े प्रमुख तथ्य:

दोनों देशों ने मिलकर आतंकवाद से मुकाबला करने हेतु समझौता किया। दोनों देशों के मध्य ऊर्जा, साइबर सिक्यॉरिटी, सिविल न्यूक्लियर समेत कई अन्य क्षेत्रों में सहयोग बढ़ाने हेतु समझौतों पर हस्ताक्षर किए गए।

भारतीय कंपनियां बांग्लादेश की कंपनियों के साथ मिलकर तेल सप्लाई पर काम कर रही हैं, इस दिशा में कई समझौते होंगे। आर्थिक मुद्दों पर भी भारत बांग्लादेश दोनों देशों के मध्य साझेदारी की गयी। आंचलिक और अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर विकास के लिए रिश्तों को मजबूत करने हेतु समझौता किया गया।

दोनों देशों के मधु व्यापारिक रिश्ते मजबूत करने और प्रोत्साहित करने हेतु को समझौता किया गया। आर्थिक मुद्दों पर भारत बांग्लादेश दोनों देशों ने सहमती व्यक्त की। बांग्लादेश की पीएम शेख हसीना ने तीस्ता डील को दोनों देशों के लिए प्रमुख बताया।

Advertisements