​जेसीबी से कराया मनेरगा का काम

हुसैनाबाद : पलामू प्रमंडल मनरेगा लोकपाल डॉ. मुरारी झा शनिवार को हैदरनगर प्रखंड के पमूर्वी पंचायत अंतर्गत खडीहा गांव के समीप अहरा बांध के निचली हिस्सा में डोभा निर्माण का स्थलीय निरीक्षण किया। वे झारखंड राज्य के मनरेगा सचिव व मनरेगा आयुक्त के निर्देश पर निरीक्षण करने पहुंचे थे। निरीक्षण के दौरान डॉ. मुरारी झा ने योजना स्थल का चयन सही स्थानों पर नहीं किए जाने की बात कही। बताया कि सरकार के निर्देश पर जलसंचय के लिए डोभा का निर्माण कराया जा रहा है। जिला के कई स्थानों पर डोभा का निर्माण सही नहीं हो सका है। इसकी जांच सचिव के निर्देश पर किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि योजना निर्माण का कार्य मजदूरों के बजाए जेसीबी मशीन से कराई गई। कनीय अभियंता ने योजना का ले आउट भी नहीं किया है। जांच के दौरान अभिलेखों का सत्यापन किया गया है। उन्होंने कहा कि 16 मार्च 2017 की देर रात मुखिया की जानकारी के बिना ही आनन-फानन में डोभा निर्माण का कार्य कराया गया। यह सभी कार्य मनरेगा प्रावधान के विपरीत हुआ है। उन्होंने कहा कि इस कार्य के दोषी के विरुद्ध जांच के बाद कारवाई होगी। लोकपाल डॉ. झा ने अभिलेख की जांच के बाद डोभा निर्माण की राशि भुगतान नहीं होने की भी पुष्टि की। इस संबंध में मुखिया सीमा देवी ने भी लोकपाल के साथ डोभा निर्माण स्थल पहुंचकर जांच में सहयोग किया। उन्होंने कहा कि न तो चेक स्लिप पर और न ही कार्यादेश पर उनसे अनुमति ली गई है। कहा कि बेवजह कई शरारती तत्व उन्हें परेशान कर रहे हैं। इस संबंध में रोजगार सेवक नजमा खातून ने जांच के दौरान लोकपाल को सभी अभिलेख दिखायी। कहा कि उपर से अधिकारियों का डोभा निर्माण के लिये दबाव है। हैदरनगर पूर्वी पंचायत में डोभा के लिए कोई जमीन देने को तैयार नहीं है। किसी तरह एक व्यक्ति तैयार भी हुआ तो उसकी जमीन आहर ¨पड के नीचे है। यहां डोभा निर्मण का कोई आदेश नहीं मिला है। डोभा निर्माण किसके आदेश से हुआ उन्हें पता नहीं है। विरोधियों ने साजिश कर उन्हें फंसाने के लिए यहां डोभा खुदवाया है। डोभा निर्माण जांच के दौरान लोकपाल के साथ पंचायत सेवक महेंद्र ¨सह, रोजगार सेवक नजमा खातून, समाजसेवी सरयू खां, उमेश कुमार आदि कई लोग शामिल थे।

Advertisements